मानसून प्रूफ शौचालय डिज़ाइन- कार्यक्षमता और सौंदर्य को संतुलित करना

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हम में से जो लोग बारिश से सराबोर तटीय शहरों में रहते हैं, उनके लिए मानसून ऐसा मौसम है जिसे वो पसंद भी करते हैं और नापसंद भी. हम इसे पसंद करते हैं, क्योंकि ये गर्मी से राहत देता है, हमारे शहर को हरा-भरा बनाता है, हवा साफ करता है. और हमारे घरों के साथ जो ये करता है उसके लिए हम इसे नापसंद करते हैं. यहां तक की मुंबई के बेहद संपन्न उप-नगर जुहू में करोड़ों की कीमत वाले बंगले नीले रंग के तिरपाल से ढके होते हैं. क्यों? क्योंकि ऐसी कोई वॉटरप्रूफिंग की व्यवस्था नहीं है जो बारिश को रोक सके.

आखिरकार हमें नम दीवारों, छतों पर पानी के धब्बे, कभी न सूखने वाले कपड़े और जून से सितंबर के गीले महीनों में हर चीज़ से चिपकी रहने वाली अजीब दुर्गंध का सामना करना पड़ता है. ऐसा तब होता है जब चीज़ें सीमा के बाहर नहीं गई होती हैं.

बाढ़ से बुनियादी ढांचे को बहुत क्षति पहुंचती हैं, जिसमें स्वच्छता और हाइजीन के लिए ज़रूरी शौचालय भी शामिल हैं. जो शौचालय मानसून की बारिश झेलने के लिए डिज़ाइन नहीं किए गए हैं, वे बाढ़ व रुकावट के कारण अनुपयोगी हो सकते हैं, जिससे स्वास्थ्य और पर्यावरणीय जोखिम पैदा हो सकता है. ऐसी बाढ़ के तुरंत बाद डायरिया संबंधी बीमारियों का फैलना भी सामान्य बात है, क्योंकि मानव मल में मौजूद रोगजनक बाढ़ वाले शौचालयों से हमारी सड़कों तक फैल जाते हैं और हमारी ज़मीन व जल निकायों को दूषित कर देते हैं.

इसलिए मानसून प्रूफ शौचालयों को डिजाइन करना बहुत अहम है, जो सौंदर्यशास्त्र और कार्यक्षमता के बीच संतुलन बनाए, और भारतीय मानसून को सहन करते हुए उपयोगकर्ता को सुखद व अनुकूल सुविधाएं दें.

मानसून के दौरान शौचालयों के सामने आने वाली चुनौतियां

जलभराव और बाढ़
जलभराव तब होता है जब मिट्टी पानी से तर-बतर हो जाती है, जिससे पानी निकल नहीं पाता, रुक जाता है. जब ऐसा होता है, तो शौचालय कचरे को बहा नहीं सकते, क्योंकि कचरे के निकलने के लिए कोई जगह नहीं होती है. जलभराव से दुर्गंध भी आती है जिससे कीट आकर्षित हो सकते हैं.

बाढ़ तब आती है जब पानी का स्तर ज़मीनी स्तर से ऊपर बढ़ जाता है, जिससे संरचनाएं और बुनियादी ढांचे पानी में डूब जाते हैं. बाढ़ मिट्टी को नष्ट करके या कचरे को बहाकर पारंपरिक शौचालय संरचनाओं, जैसे गड्ढे वाले शौचालय या सेप्टिक टैंक को नुकसान पहुंचा सकती है, जैसा की हम जानते हैं, इससे सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिम पैदा हो सकता है.

स्वच्छता एवं साफ-सफाई संबंधी चिंताएं
मानसून के दौरान, कई कारमों से स्वच्छता और हाइजीन से समझौता करना पड़ता है. एक कारण है स्वच्छता संबंधी समस्याओं का बढ़ता जोखिम है, जैसे खराब जल निकासी, बाढ़ या रखरखाव की कमी. स्वच्छता संबंधी समस्याओं के कारण शौचालय गंदे, बदबूदार या उपयोग के लिए असुरक्षित हो सकते हैं. स्वच्छता के मुद्दे पर्यावरण को भी प्रभावित कर सकते हैं, क्योंकि शौचालय अपशिष्ट जल स्रोतों या मिट्टी को प्रदूषित कर सकते हैं.

एक अन्य कारण है प्रतिकूल मौसम के कारण शौचालयों में स्वच्छता बनाए रखने में मुश्किलें आना. शौचालयों में स्वच्छता बनाए रखने के लिए नियमित सफाई और डिसइंफेक्शन की ज़रूरत होती है. गीली और उमस भरा माहौल सफाई को बहुत मुश्किल और अधिक समय लेने वाली बना सकती है. गीली और आर्द्र परिस्थितियां फफूंद, बैक्टीरिया या फंगस को बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां भी बना सकती हैं.

सौंदर्यशास्त्र से समझौता किए बिना, मानसून-प्रूफ शौचालय डिजाइन में मज़बूत कार्यक्षमता बनाना
यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे सौंदर्यशास्त्र और कार्यक्षमता में संतुलन बनाकर मज़बूत मानसून-प्रूफ शौचालय डिजाइन बना सकते हैं:

मज़बूत समाग्रियों को शामिल करना

• स्टेनलेस स्टील- स्टेनलेस स्टील एक मिश्र धातु है क्षरण, जंग, धंब्बे लगने या धूमिल होने के लिए प्रतिरोधी है. स्टेनलेस स्टील का उपयोग टॉयलेट फिक्स्चर, जैसे सिंक, नल या पाइप के लिए किया जा सकता है.. स्टेनलेस स्टील का उपयोग शौचालय के विभाजन या दरवाज़ों के लिए भी किया जा सकता है, क्योंकि यह मजबूती और गोपनीयता प्रदान करता है. इसके अलावा, स्टेनलेस स्टील की सफाई और रखरखाव बहुत आसान है.
• फाइबर-प्रबलित प्लास्टिक- फाइबर-प्रबलित प्लास्टिक (FRP) एक मिश्रित सामग्री है जिसमें कांच या कार्बन जैसे फाइबर से प्रबलित प्लास्टिक होता है. FRP हल्का, मजबूत और प्रभावी रूप से नमी या रसायनों के प्रति प्रतिरोधी है. FRP का इस्तेमाल शौचालय की दीवारों या छतों के लिए किया जा सकता है, क्योंकि यह मौसम के तत्वों से इन्सुलेशन और सुरक्षा प्रदान करता है. चूंकि FRP को मनचाहे आकार में ढाला जा सकता है और इसमें जो चाहे रंग शामिल किए जा सकते हैं, इसलिए इसका इस्तेमाल करने से डिज़ाइन की कई संभावनाएं खुलती हैं.
• जल प्रतिरोधी पेंट- जल प्रतिरोधी पेंट का उपयोग शौचालय की सतहों, जैसे फर्श या छत के लिए किया जा सकता है. रंग जोड़ने के अलावा, पानी प्रतिरोधी पेंट सतहों से नमी को दूर रखकर शौचालयों का रखरखाव करता है, वरना ये खराब हो सकता है.

उचित जल निकासी की व्यवस्था

• फ्रेंच नालियां- फ्रेंच नालियां ऐसी खाइयां हैं जो बजरी या चट्टान से भरी होती हैं. फ्रेंच नालियों का उपयोग शौचालय की जल निकासी के लिए किया जा सकता है, क्योंकि वे पानी को इकट्ठा करते हैं और शौचालय से दूर ले जाते हैं. फ्रेंच नालियां शौचालयों को प्राकृतिक या देहाती लुक देकर उनके सौंदर्यशास्त्र को भी बढ़ा सकती हैं.
• बायोगैस डाइजेस्टर- बायोगैस डाइजेस्टर ऐसे उपकरण हैं जो मानव या पशु मल जैसे जैविक कचरे को बायोगैस और उर्वरक में बदलते हैं. बायोगैस डाइजेस्टर का इस्तेमल शौचालय की जल निकासी के लिए किया जा सकता है, क्योंकि वे अपशिष्ट की मात्रा और दुर्गंध को कम करती है. बायोगैस डाइजेस्टर नवीकरणीय ऊर्जा स्रो या जैविक उर्वरक भी प्रदान कर सकते हैं.

ऊंची और बाढ़ प्रतिरोधी संरचनाएं
ऊंची और बाढ़ प्रतिरोधी संरचनाएं ऐसी संरचनाएं हैं, जो ज़मीनी स्तर से ऊपर उठाई जाती हैं या बाढ़ के दौरान पानी के प्रवेश को झेलने के लिए डिज़ाइन की जाती हैं. यह डिज़ाइन सुनिश्चित करता है कि भारी बारिश के दौरान भी शौचालय काम करते रहें और सुरक्षित रहें.

वेंटीलेशन और दुर्गंध नियंत्रण

• खिड़कियां- शौचालय में खिड़कियों का इस्तेमाल शौचालय वेंटिलेशन के लिए किया जा सकता है, क्योंकि ये हवा के प्रवाह या क्रॉस-वेंटिलेशन के ज़रिए कुदरती वेंटिलेशन प्रदान करते हैं. खिड़कियां शौचालयों में चमक या गर्मी भी जोड़ सकती हैं.
• एग्जॉस्ट फैन\निकास पंखे- एग्जॉस्ट पैन का इस्तेमाल शौचालय के वेंटिलेशन के लिए किया जा सकता है, क्योंकि वे नकारात्मक दबाव या सक्शन बनाकर मेकैनिकल वेंटिलेशन प्रदान करते हैं. ये पंखे शौचालयों में आर्द्रता या नमी को भी कम कर सकते हैं.
• एक्टिवेटेड चारकोल- एक्टिवेटेड चारकोल कार्बन का एक रूप है जिसे इसके सतह क्षेत्र और सरंध्रता को बढ़ाने के लिए संसाधित किया गया है. एक्टिवेटेड चारकोल का इस्तेमाल शौचालय में दुर्गंध नियंत्रण के लिए किया जा सकता है, क्योंकि यह अवशोषण या रासायनिक प्रतिक्रिया द्वारा दुर्गंध को अवशोषित करता है. एक्टिवेटेड चारकोल शौचालयों में हवा को शुद्ध या दुर्गंधमुक्त भी कर सकता है. जिस शौचालय से अच्छी खुशबू आती है, उपयोगकर्ता उसी शौचालय का इस्तेमाल करेगा.

एर्गोनोमिक और उपयोगकर्ता के अनुकूल लेआउट
एर्गोनोमिक और उपयोगकर्ता के अनुकूल लेआउट उनकी अलग-अलग ज़रूरतों और प्राथमिकताओं को पूरा करते हुए शौचालयों को अधिक सुलभ और समावेशी बना सकते हैं. यूनिवर्सल डिज़ाइन एक डिज़ाइन दृष्टिकोण है जिसका मकसद ऐसे उत्पाद या वातावरण बनाना है जो उम्र, क्षमता या स्थिति की परवाह किए बिना सभी लोगों द्वारा उपयोग करने योग्य हो. यूनिवर्सल डिज़ाइन को शौचालय लेआउट पर लागू किया जा सकता है, क्योंकि यह पहुंच, अनुकूलनशीलता या सुरक्षा जैसे कारणों पर विचार करता है. यूनिवर्सल डिज़ाइन शौचालयों में समानता या गरिमा को भी बढ़ावा दे सकता है.

हमें मानसून-प्रूफ शौचालय डिज़ाइनों में सौंदर्यशास्त्र की ज़रूरत क्यों है?
सौंदर्यशास्त्र एक सकारात्मकअसर पैदा कर सकता है और उपयोगकर्ता के व्यवहार और संतुष्टि को भी प्रभावित कर सकता है. जब हम कोई सुंदर चीज़ बनाते हैं, तो लोगों द्वारा उसकी उपेक्षा या तोड़फोड़ करने की संभावना कम होती है. यह ब्रोकन विंडोज़ सिद्धांत का उल्टा उपयोग है. इसके अलावा, एक अच्छा दिखने वाला, अच्छी तरह से बनाए रखा गया शौचालय समुदाय के लिए एक संपत्ति बन जाता है, जिसके लिए वे ज़िम्मेदार महसूस करते हैं.

मानसून-प्रूफ शौचालय डिज़ाइन में सौंदर्यशास्त्र को पाने एक तरीका परिवेश के साथ सामंजस्य स्थापित करना है. ऐसा उन डिज़ाइनों का चुनाव करके किया जा सकता है जो कुदरती परिदृश्य के साथ अच्छी तरह मेल खाते हैं, जैसे मिट्टी के रंग और पर्यावरण-अनुकूल सामग्री का उपयोग करना. उदाहरण के लिए, ग्रामीण और जैविक अनुभव पैदा करने के लिए बांस, लकड़ी या पत्थर का इस्तेमाल किया जा सकता है.

सौंदर्यशास्त्र प्राप्त करने का एक अन्य तरीका डिज़ाइन में टिकाऊ फीचर्स को शामिल करना है. एक आकर्षक माहौल बनाने के लिए कुदरती रोशनी और हरे तत्वों का इस्तेमाल करके ऐसा किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, खिड़कियों, सौर पैनलों या पौधों का उपयोग रोशनी, ऊर्जा या ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए किया जा सकता है. ये सुविधाएं शौचालय के पर्यावरणीय प्रभाव को भी कम कर सकती हैं.

जागरूकता और शिक्षा के ज़रिए आम सहमति बनाना
जब हमारे शहरों में बाढ़ आती है, तो असहाय होने की मानसिकता में पड़ना आसान होता है – यह सोचना आसान है कि हमारे पास कोई ताकत नहीं है, और हम बदलाव को प्रभावित नहीं कर सकते. सौभाग्य से, यह बिल्कुल सच नहीं है. हार्पिक और न्यूज18 को यह बात काफी समय पहले से पता है, और 3 साल पहले मिशन स्वच्छता और पानी बनाने के लिए वो एक साथ आए. एक आंदोलन जो समावेशी स्वच्छता के मकसद को बनाए रखता है जहां हर किसी को स्वच्छ शौचालय तक पहुंच मिलती है. यह सभी लिंगों, क्षमताओं, जातियों और वर्गों के लिए समानता की वकालत करता है और दृढ़ता से मानता है कि स्वच्छ शौचालय एक साझा ज़िम्मेदारी है.

3 सालों मिशन स्वच्छता और पानी ने नीति निर्माताओं, निर्वाचित अधिकारियों, कार्यकर्ताओं, गैर सरकारी संगठनों, पर्यावरणविदों, मशहूर हस्तियों और हितधारकों के एक पूरे समूह के लिए विचार, शब्द और कार्रवाई में एक साथ आने और सभी के लिए स्वच्छ एवं सुरक्षित शौचालय तक पहुंच को लोकतांत्रिक बनाने की दिशा में ठोस कार्रवाई करने के लिए एक मंच तैयार किया है. यह उन सभी सूचनाओं के भंडार के रूप में भी काम करता है जिनकी आपको अपने स्थानीय नगर निकाय को मानसून-प्रूफ शौचालय डिज़ाइन अपनाने के लिए एक ठोस तर्क देने के लिए आवश्यकता होती है.

अब बस आपकी और आपकी अनोखी आवाज़ की ज़रूरत है. आप इस राष्ट्रीय बदलाव का हिस्सा कैसे बन सकते हैं, यह जानने के लिए हमसे यहां जुड़ें.

-पार्टनर पोस्ट.

Tags: Mission Swachhta Aur Paani, Swachh Bharat Abhiyan, Swachh Bharat Mission

Source link

Leave a Comment

  • 7k Network
  • Traffic Tail
  • UPSE Coaching
What does "money" mean to you?
  • Add your answer